सोलर बिजनेस... निरंतर चलनेवाला बिजनेस मॉड्युल!

सोलर बिजनेस... निरंतर चलनेवाला बिजनेस मॉड्युल!

सोलर के क्षेत्र में भारत ने पिछले कुछ सालों में जबरद्स्त तरक्की की है। यही वजह है कि आज भारत सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करने में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ देशों में शुमार हो गया है। 


देश का लक्ष्य... भारत तेजी से सौर ऊर्जा के वैकल्पिक स्त्रोतों की तरफ प्रगति कर रहा है। इसके साथ ही देश में साल 2022 तक 175 गीगावॉट तक के सोलर पॉवर का जनरेशन शुरु करने का लक्ष्य रखा है।


बिजनेस कोच स्नेहल कांबले के प्रेरणादायी बिजनेस व्हिडीओज देखने के लिए क्लिक करें


केंद्र सरकार से बढावा... यही नहीं सौर ऊर्जा की खपत को बढ़ाने के लिए केंद्र सरकारने साल 2022 तक रुफटॉप सोलर प्रोग्राम से 40,0000 मेगावाट की संचयी क्षमता प्राप्त करने के लिए ग्रिड कनेक्टेड रूफटॉप सोलर प्रोग्राम के फेज -2 को भी मंजूरी दी है।


किसानो के लिए नयीं योजना... इसके अलावा किसानों को सौर ऊर्जा के इस्तेमाल के प्रति जागरूक करने के मकसद से कुसुम योजना की भी शुरुआत की गई।


इसके साथ ही सरकार सोलर एनर्जी एंड वॉटर ट्रीटमेंट पर एक टेक्नोलॉजी मिशन सेंटर को जल्द ही लॉन्च करने वाली है।


भविष्य के सेमिनार और सेशन्स की जानकारी के लिए क्लिक करें


ग्लोबल वार्मिंग कम हो सकता हैं... सोलर पॉवर के इस्तेमाल से ग्लोबल वार्मिंग जैसी गंभीर समस्या से निजात मिल सकेगी और पर्यावरण को बचाया जा सकेगा।


इस कारणों के चलते सोलर बिजनेस एक निरंतर और भविष्य में चलनेवाला बिजनेस मॉड्युल हैं। मेरी सभी से दरख़्वास्त है की ज्यादा से ज्यादा उद्यमी इस बिजनेस के बारे में सोचे और अपना बिजनेस शुरु करें।


देश में लुमिनस, मायक्रोटेक, टाटा पावर जैसे बडी कंपपिया इस क्षेत्र में काम कर रही है।